Blog

भारत में किसान आत्महत्या ÷

सम्पूर्ण विश्व इस बात को जानता है कि भारत एक कृषि प्रधान देश है और इसकी 70% आबादी प्रत्यक्ष और परोक्ष रूप से गाँव में निवास करती है लेकिन यह भी सत्य है कि भारत में हुई आत्महत्याओ में 11% आत्महत्याए किसानों ने की है!

 

किसान आत्महत्या के निम्न कारण÷

1.मानसून÷

भारत में किसान आत्महत्या १९९० के बाद पैदा हुई स्थिति है जिसमें प्रतिवर्ष दस हज़ार से अधिक किसानों के द्वारा आत्महत्या की रपटें दर्ज की गई है। १९९७ से २००६ के बीच १,६६,३०४ किसानों ने आत्महत्या की।

[1]भारतीय कृषि बहुत हद तक मानसून पर निर्भर है तथा मानसून की असफलता के कारण नकदी फसलें नष्ट होना किसानों द्वारा की गई आत्महत्याओं का मुख्य कारण माना जाता रहा है। मानसून की विफलता, सूखा, कीमतों में वृद्धि, ऋण का अत्यधिक बोझ आदि परिस्तिथियाँ, समस्याओं के एक चक्र की शुरुआत करती हैं।

बैंकों, महाजनों, बिचौलियों आदि के चक्र में फँसकर भारत के विभिन्न हिस्सों के किसानों ने आत्महत्याएँ की भारत में कई किसान हर साल आत्महत्या करते हैं। भारत के राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो के द्वारा जारी रिकॉर्ड के अनुसार देश में किसानों की आत्महत्या के मामले किसी भी अन्य व्यवसाय से अधिक हैं। महाराष्ट्र, केरल, आंध्र प्रदेश और कर्नाटक राज्य में आत्महत्या के मामले अपेक्षाकृत अधिक हैं।इसके लिए कई कारक जिम्मेदार हैं।

भारत में किसान आत्महत्याओं के कुछ प्रमुख कारण इस प्रकार हैं:

ऋण का भुगतान करने में असमर्थता सूखे और बाढ़ जैसे अनियमित मौसम की स्थिति के कारण फसलों को नुकसान पहुंचना। अप्रिय सरकार की नीतियां परिवार की मांगों को पूरा करने में असमर्थता व्यक्तिगत मुद्दे सरकार ने इस समस्या को रोकने के लिए कई पहल की हैं। इनमें से कुछ में कृषि ऋण छूट और ऋण राहत योजना 2008, महाराष्ट्र धन ऋण (विनियमन) अधिनियम 2008, राहत पैकेज 2006 और विविधता आयकर स्रोत पैकेज 2013 शामिल हैं। कुछ राज्यों ने संकट में किसानों की मदद करने के लिए भी समूह बनाए हैं। हालांकि इन पहलों में से अधिकांश किसानों को उत्पादकता और आय में वृद्धि करने के बजाय ऋणों को प्रदान या पुनर्भुगतान करने पर केंद्रित हैं और इस प्रकार वांछित परिणाम प्राप्त हुए हैं। सरकार को इस मामले को गंभीरता से देखने की जरूरत है और इस समस्या को दूर करने के लिए किसानों की आत्महत्या के कारणों को खत्म करने के लिए प्रभावी कदम उठाने की जरूरत है।

Leave a Reply